Become an Affiliate Click Here To Register

Alpha 101

Natural Remedy for Skin Problems
Price: 125.00 100.00
+ Free Delivery
  • 100% Pure ayurveda

In Stock

Buy From Amazon

Acne can be highly stubborn and distressing. The pimples can not only be painful but also leave behind ugly scars. Ayurveda provides abundant natural ways to fight various skin problems and keep your skin healthy. Using age old methodologies of Ayurveda, we have created a magical blend of herbs called Alpha 101. Its antibacterial and anti-fungal properties prevent bacterial breakouts, fights acne causing bacteria and prevent scars. It is also anti-allergic and cleanse toxins from the pores It can treat all disorders away from its roots.
It can also give you an instant relief from mosquito bites. Mosquito bites may be harmless, but these nasty bumps are itchy and can sometimes be painful. Just one application of Alpha 101 will help you get rid of itching and redness.

चमड़ी के रोग घातक होते हैं. इसमें खाज-खुजली, सुजन, लाल धब्बे, सफ़ेद दाग और चमड़ी गलना इत्यादि विकार हो जाते हैं. इनका समय पर इलाज जरुरी है. रोग बढ़ने पर ये लाइलाज और अत्यंत खर्चीला हो जाता है. चमड़ी के रोगों का इलाज लम्बे समय तक चलता है. चमड़ी के रोगों के लिए अल्फा 101 एक नायाब और जाडुई उत्पाद है. ये मनुष्य-मात्र को प्रकृति का अनमोल उपहार है. अल्फा 101 लगाते ही व्यक्ति को तुरंत आराम मिलता है. इसका नियमित प्रयोग कुछ समय के पश्चात रोग को जड़-मूल से नाश कर देता है. यह एक सम्पूर्ण आयुर्वेदिक उत्पाद है परामर्श के बाद इसके इस्तेमाल से किसी भी प्रकार का दुष्परिणाम नहीं होता है. चमड़ी के रोग वाले हिस्से को गरम पानी में डूबे हुए कपड़े से साफ़ कर लें. इसके पश्चात् अल्फा 101 की कुछ बूँदें ऊँगली पर लेकर चमड़ी के रोग वाले हिस्से में लगाकर हलके हाथों से मालिश करें और खुला ही छोड़ दें. नाखूनों से नहीं रगड़ें. घाव होने की स्थिति में चिकित्सक से परामर्श लें उसके बाद ही अल्फा 101 का प्रयोग करें. 24 घंटे में तीन या चार बार इसे लगाने से जल्दी ही चमड़ी के रोग से छुटकारा पाया जा सकता है.

Ingredients/घटक: -


आवला, नीम, गुड़हल का फूल, पारिजात, बिल्बपत्र, चन्दन, पिपरमिंट, पुदीना, अजवाइन का फूल, कपूर, लौंग, अदरक, काली मिर्ची, मुलेठी, ग्वार पाठा, महुए का फूल, दशमूल, गिलोय, जटामासी, बेस ओइल.