ALPHA HEAL

What would you do if you cut your finger while chopping vegetables? How would handle a stovetop burn, a spider bite, or a child’s scrape from a fall? Minor injuries happen every day, and it is important to treat them properly to avoid further bleeding or infection. The traditional Indian medicine—Ayurveda, describes various herbs, fats, oils and minerals with wound healing properties. Using the age old methodologies of Ayurveda, we have created Alpha HEAL, a magical blend of herbs and oils to treat minor cuts, scrapes, bruises and burns. Alpha HEAL is an advanced wound care gel used to open wounds, cuts and burns, and infected wounds. Its anti-bacterial properties help relieve inflammation and fight bacteria that are found on the skin and prevent bacteria from entering the body via the wound opening. It also helps clot the blood, so it will prevent the wound from bleeding further. Alpha HEAL also treats the skin, so there will be little to no scarring and the skin will stay protected.

हर पल तेज रफ़्तार से चलते हुए जीवन में कब कोई दुर्घटना घट जाए कह नहीं सकते हैं. निगाह हटी और दुर्घटना घटी. ऐसे में व्यक्ति को चोट लगना एक स्वाभाविक स्थिति है. दुर्घटना छोटी सी और बहुत बड़ी भी हो सकती है. चोटिल व्यक्ति को शरीर पर घाव हो जाते हैं. ऐसे में चिकित्सक दवाई लगाकर घावों की मरहम पट्टी करता है. वह जो दवाई लगाई जाती है उस पर निर्भर करता है कि घाव कितने दिन में ठीक होगा. आयुर्वेद में इसके लिए जादुई तरीके से इलाज करने वाली कामयाब जड़ी-बूटियाँ बताई गई है. उसी खजाने से निकालकर हमने अल्फा HEAL दुनिया के सामने प्रस्तुत की है. घावों को जल्दी ठीक करने के लिए अल्फा HEAL एक नायाब और जादुई उत्पाद है. ये मनुष्य-मात्र को प्रकृति का अनमोल उपहार है. ये रोग की गंभीरता पर निर्भर करता है कि इसका परिणाम आने में कितना समय लगेगा. कितना भी गंभीर रोग हो, ये पक्का है कि रोगी जरुर ठीक होगा. यह एक सम्पूर्ण आयुर्वेदिक उत्पाद है. परामर्श के बाद इसके इस्तेमाल से किसी भी प्रकार का दुष्परिणाम नहीं होता है.

Ayurvedic Medicine For Periods Problem

How to use/ उपयोग विधि: -

Stop any bleeding before applying a dressing to the wound. Clean the wound under drinking-quality water – avoid using antiseptic as it may damage the skin and slow healing. Pat the area dry with a clean towel and apply Alpha HEAL covering the whole wound. Cover with a sterile adhesive bandage, if needed. Keep the dressing clean by changing it every 12 hours. Keep the wound dry by using waterproof dressings, which will allow you to take showers. Wounds can be painful, so consider taking Alpha 1 while the wound heals. Consult with a doctor, if the wound is taking too long to heal or if it looks infected.

गरम पानी से चोटिल जगह को अच्छी तरह साफ़ कर लें. इसके बाद अल्फा HEAL एक साफ़ उँगली पर लेकर पूरे घाव को घेरते हुए उसके उपर लेप लगा दें. चोटिल हिस्से को खुला छोड़ सकें तो बेहतर है अन्यथा पट्टी बाँध दें. ताजा घाव होने पर 12 घंटे के बाद पुनः इस कार्य को करें. तीन-चार बार की मरहम पट्टी में ही घाव ठीक होने लगेगा. घाव ठीक होने तक इसे नियमित रूप से लगाएँ. अल्फ़ा HEAL को लगाने से घाव का निशान नहीं रहता है. ज्यादा चोट लगने पर चिकित्सक से परामर्श ज़रूर ले. बुखार एवं ज्यादा दर्द की स्थिति में अल्फ़ा 1 (ALPHA 1) लेना भी सही होगा.

Ingredients/घटक: -

हल्दी, आम्बा हल्दी, अजवाइन, अजवाइन का फूल, कपूर कांचहरी, पिपरमिंट, पुदीना, आवला, बहेड़ा, जायफल, ब्राह्मी, नीम, गोखरू, जामुन, करोंदा, पान, पारिजात, बिल्बपत्र, ग्वार पाठा, गिलोय, निलगिरी, चन्दन, केशर, धवल का फूल.

Let us know your requirements. For bulk orders or any enquiry about Ayurvedic Medicines you may feel free to contact us.